Course,review,students

कुछ कहने से पहले में पुष्कर जी को धन्यवाद कहना चाहूंगा क्यूंकी इनकी वजह से ही मैं आज एक बेहतर जिंदगी जी पा रहा हूँ। एक समय था जब मुझे किसी से भी बात करने में बहुत संकोच होता था लेकिन अब मेरे अंदर कॉन्फिडेंस आ गया है साथ ही मैं अब आउट स्पोकेन हो गया हूँ। ये जिन शब्दों का मैं प्रयोग कर रहा हूँ वो भी इस कोर्स की वजह से ही है। मैं दिल से पुष्कर जी को धन्यवाद देना चाहूंगा क्यूंकी मैं आज जो भी हूँ उसमें उनका भी योग दान है।

अंकित शाह